अभ्रक भस्म के फायदे और नुकसान

अभ्रक भस्म एक आयुर्वेदिक भस्म है जो की माइका के सोधन के बाद बनता हैं, यह कई रोगों में बहुत ही लाभदायक होता है, जानिये इसके फायदे और नुकसान क्या है।

आयुर्वेदिक भस्म में जैविक रूप से उत्पादित नैनोकण होते हैं। आयुर्वेदिक तरीके से तैयार इन दवाओं को विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में उपयोग की जाती है।

अभ्रक भस्म को बनाने के लिए माइका mica (Biotite) [K(Mg,Fe)3(AlSiO10)(OH)2] खनिज को कुछ पौधों की सामग्रियों के मिश्रण के बाद बार-बार कैल्सीनेशन किया जाता है और इसका ऑक्साइड रूप प्राप्त किया जाता है।

कैल्सीनेशन को कितनी बार किया जा रहा है उससे उतनी पुटीअभ्रक भस्म तैयार होती है, जैसे 10 चक्र (दस पुटी), 100 चक्र (स्थ पुटी), 1000 चक्र (सहस्त्र पुटी), आदि ।

अभ्रक भस्म का ईंट जैसे लाल रंग की होती है क्योंकि इसमें लौह ऑक्साइड है, Fe2O3 पाया जाता है।

कैल्सीनेशन को बार बार करने का उद्देश्य बहुत बारीक आकार के कण का आकार प्राप्त करना है।

अभ्रक भस्म का व्यापक रूप से सिकल सेल एनीमिया, बेल पाल्सी, हेपेटिक डिसफंक्शन, ल्यूकेमिया, सेक्स डिबिलिटी, एज़ोस्पर्मिया, सिस्टिक फाइब्रोसिस, पोस्ट एन्सेफेलिक डिसफंक्शन और गर्भाशय ग्रीवा डिस्प्लेसिया आदि में प्रयोग किया जाता है।  इसमें एफ़्रोडायसियाक और पुनर्स्थापनात्मक (शक्तिशाली सेल पुनर्जन्म) तथा विभिन्न सूक्ष्म ऊतक के अंदर तक चले जाने के गुण हैं। यह एक एफ़्रोडायसियाक, एंटी-पायरेरिक, कारमेटिव, हेमेटिनिक और कायाकल्प करने के लिए प्रयोग की जाने वाली दवा है।

अभ्रक भस्म की औषधीय मात्रा

दवा के खुराक निम्नानुसार है:

  • 5 से 10 साल के लिए – 120 मिलीग्राम
  • 11 से उपर – 240 मिलीग्राम

अनुपान

  • अभ्रक भस्म को रोग अनुसार अनुपान के साथ दिया जाता है।
  • अनीमिया, पीलिया: मंडूर + अमृतारिष्ट के साथ
  • चमड़ी रोग: खदिरारिष्ट के साथ
  • टी बी: गिलो के सत्व + प्रवाल पिष्टी + श्रृंग भस्म के साथ
  • दमे, सांस रोग: पिप्पली चूर्ण + शहद के साथ
  • दिमागी कमजोरी और थकान: मुक्ता पिष्टी के साथ
  • धातु की कमी: लौंग के चूर्ण + शहद
  • धातु वृद्धि: सोना चांदी की भस्म ३० mg + छोटी इलाइची का चूर्ण + शहद/मक्कन के साथ
  • पुराने बुखार: पिप्पली चूर्ण + शहद
  • पेट के रोगों: कुमार्यासव के साथ
  • प्रमेह: शिलाजीत या गिलोय के सत्व के साथ
  • प्रसव के बाद के रोगों: दशमूल के काढ़े के साथ
  • मन्दाग्नि: त्रिकटू के साथ
  • संग्रहणी: कुटजावालेह के साथ
  • साधारण ज्वर: रस सिन्दूर के साथ
  • हृदय रोग: शहद के साथ

अभ्रक भस्म के फायदे

अभ्रक भस्म शरीर के सूक्ष्म ऊतकों के अंदर तक पहुँचती है और ऊतक के निर्माण में माद करती है। इस दवा में लौह, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम और एल्यूमीनियम की ट्रेस मात्रा भी होती है। यह एक तंत्रिका टॉनिक है। अभ्रक भस्म व्यापक रूप से श्वसन पथ संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग की जाती है क्योंकि यह कफ को सुखाती है।

अभ्रक भस्म का व्यापक रूप से हेपेटाइटिस, क्षय रोग, अस्थमा और प्लेग जैसी बीमारियों के इलाज में उपयोग किया जाता है। इसमें लोहा होने से इसे एनीमिया के इलाज में भी प्रयोग किया जाता है। यह हमारे चयापचय प्रणाली को नियंत्रित करने के लिए भी जाना जाता है और इसलिए मेटाबोलिक रोगों जैसे डायबिटीज में फायदेमंद है। यह दवा पुरानी डाइसेंटरी, बेल्स पाल्सी, स्ट्रोक पक्षाघात, अस्थमा, क्षय रोग, हेपेटिक डिसफंक्शन और अस्थि मज्जा की कमी जैसी बीमारियों में लाभप्रद है।

रसायन

यह कमजोरी, मन्दाग्नि, वीर्य दोष, धातु की कमी, मानसिक और शारीरिक थकावट को दूर करने वाला रसायन है।

कफ और श्वास की समस्याओं में लाभप्रद

क्रोनिक ब्रोंकाइटिस, अस्थमा और चेस्ट कंजेशन के कारण श्वास की समस्याओं के लिए इस दवा की भी सिफारिश की जाती है। क्षय रोग , यदि प्रारंभिक चरण में पता चला है तो हम इसे पूरी तरह से अभ्रक भस्म का उपयोग कर ठीक कर सकते हैं।

शरीर करे सुदृढ़ और बलवान

यह बलकारक, त्रिदोषघ्न, यकृत की रक्षा करने वाली और रसायन औषधि है। यह अनीमिया को दूर करती है और रक्त धातु को पोषित करती है। यह धातुओं की क्षीणता को दूर करती है। इसे लेने से शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ता है और चालकता और ऊतक में सुधार हो सकता है। यह एंटी-एज उपचार, एंटी-हेयर फॉल ट्रीटमेंट और कायाकल्प उपचार के लिए एक उत्कृष्ट दवा है।

एनीमिया करे दूर

यह हेमेटिनिक संपत्ति के लिए जाना जाता है। इस प्रकार यह हमारे नसों में लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) गिनती बढ़ जाती है। यह इन आरबीसी की ऑक्सीजन वाहक क्षमता को भी बढ़ाता है।

कामेच्छा को बढाए

यह उत्तम वाजीकारक है और कामेच्छा को बढाती है। यह स्पर्म की संख्या बढ़ाने में मदद करती है।

लिवर की करे रक्षा

लीवर के रोगों, इसका सेवन करने से रोग दूर होता है और लीवर की रक्षा होती है। इसका उपयोग पाचन हानि और मालाबसॉर्पशन सिंड्रोम रोग के उपचार में किया जाता है।

योगवाही

यह योगवाही है और अपने साथ मिले अवयवों के गुण बढ़ाती है। यह सभी धातुओं का पोषण करती है।

गुप्त रोगों में फायदेमंद

यह यौन विकारों जैसे मेल और फीमेल बांझपन, इरेक्शन दोष के इलाज में भी मददगार है।

अभ्रक भस्म के संकेत Therapeutic Uses of Abhrak Bhasma

  • अग्निमांद्य
  • ग्रहणी
  • प्लीहा रोग
  • उदर रोग
  • कृमि रोग
  • यकृत रोग
  • कफ़रोग
  • कास
  • श्वास
  • ज्वर
  • रक्तपित्त
  • प्रमेह
  • मूत्रकृच्छ
  • मूत्राघात
  • किडनी रोग
  • पाण्डु
  • केशपतन
  • त्वचा रोग
  • जरा
  • नपुंसकता
  • वीर्यपात
  • स्पर्म की कम संख्या
  • यौन दुर्बलता
  • कुष्ठ
  • ग्रंथि विष
  • रसायन
  • मानसिक रोग, मिर्गी, उन्माद, स्म्रितिनाश, नींद न आना, हिस्टीरिया
  • हृदय की दुर्बलता

अभ्रक भस्म के साइड इफेक्ट्स

  • डॉक्टर द्वारा निर्धारित किए जाने पर यह दवा सुरक्षित है।
  • दवा की निर्देशित मात्रा में लेना सेफ है।
  • लेकिन यदि आप इसे रोजाना उपभोग करते हैं तो कुछ दुष्प्रभावों का अनुभवहो सकता हैजैसे मेटलिक टेस्ट।
  • इसे चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत लिया जाना चाहिए क्योंकि अतिदेय गंभीर साइड इफेक्ट्स का कारण बन सकता है और कुछ मामलों में भी खतरनाक हो सकता है।
  • इसे लेने से दिल की धड़कन बढ़ सकती है ऐसे में इस दवा को लेना बंद करें और अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

गर्भवती महिला और स्तनपान के दौरान

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली बहनों और माताओं को इसे नहीं लेना चाहिए जब तक कि बहुत आवश्यक न हो, तथा आयुर्वेदिक डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया जाए।

निर्माता

निम्नलिखित कंपनियां अब्रक भस्म का निर्माण करती हैं:

  • डाबर
  • दिव्य फार्मेसी
  • बैद्यनाथ
  • Dhootpapeshwar
  • झंडु आदि ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!