सूखे अंजीर खाने के खाने का तरीका, फायदे और नुकसान

अंजीर एक फल होता है जिसे आप ताजा और सुखा दोनों रूप में खा सकते हैं, यह बहुत ही पौष्टिक फल होता है जो कम मात्र में पाचक, हृदय-लीवर और स्प्लीन के लिए अच्छी है लेकिन अधिक मात्र में गैस बना सकती है और लूज मोशन भी करा सकती है।

अंजीर को प्राचीन समय से खाया जाता है। हजारों सालों से लोगों को इसके अंजीर के औषधीय गुणों का ज्ञान है। अधिकांश फलों के विपरीत, अंजीर में कैल्शियम और लौह में समृद्ध होते हैं। भारत में ताजा अंजीर आसानी से उपलब्ध नहीं हैं लेकिन ड्राई रूपों में इसे खाया जाता है।

भारत में अंजीर को ड्राई फ्रूट की तरह से खाते हैं। किसी भी अन्य ड्राई फ्रूट की तरह ही अंजीर भी पोषक तत्वों का एक केंद्रित स्रोत होते हैं। अंजीर में उच्च घुलनशील फाइबर होता है ,जिससे यह कब्ज़ और बवासीर के लिए लाभप्रद हो जाता है। अगर आप को अक्सर कब्ज़ हो जाता है तो अंजीर को नियमित रूप से खाना शुरू करें।

अंजीर में बेंजाल्डेहाइड होता है, जिसका प्रयोग पशु अध्ययन में कैंसर की रोकथाम के लिए किया गया है। चल रहे शोध से पता चलता है कि अंजीर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के प्रभाव के साथ फाइटोकेमिकल्स की एक विस्तृत श्रृंखला का समृद्ध स्रोत हैं।

अंजीर एक प्राकृतिक रेचक है जो कब्ज और अन्य पाचन समस्याओं जैसे इर्रेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) को रोकने में मदद करता है। ताजा और सूखे अंजीर दोनों में रेचक गुण होते हैं जो कब्ज का इलाज करने में मदद करते हैं और आपके आंत्र आंदोलनों को नियमित रूप से रखते हैं। अगर दस्त साफ़ नहीं होता तो दो सूखे अंजीर सोने से पहले खाकर ऊपर से पानी पीना चाहिए। इससे सुबह साफ दस्त होता है। यह फाइबर का एक अच्छा स्रोत हैं जो आपको लंबे समय तक पूरा रखने में मदद करता है और कब्ज से राहत देता है। अच्छी त्वचा के लिए रोजाना 2 से 3 अंजीर खाने चाहिए।

अंजीर महत्वपूर्ण विटामिन और खनिजों में समृद्ध हैं। इसमें विटामिन ए, बी 1 और बी 2, मैंगनीज और पोटेशियम , मैग्नीशियम , तांबा , लौह और फास्फोरस पाए जाते हैं । प्राकृतिक शर्करा, खनिजों और घुलनशील फाइबर में उच्च होने से यह स्वास्थ्य को बेहतर करने में योगदान देता है।

अंजीर का पेड़

अंजीर का पेड़, गूलर जाति से संबंधित है। अंजीर के पेड़ की कई किस्में होती है। उनमें से अधिकतर 10-30 फीट पर छोटे होते हैं और गर्म, सूखे मौसम में बढ़ते हैं। अज्नीर एक वास्प के द्वारा परागित होते हैं। अंजीर के पेड़ कभी खिलते नहीं क्योंकि फूल अंदर होते हैं, और दर्जनों और कभी-कभी सैकड़ों मिनिस्कूल बीज पैदा करते हैं जो अंजीर को कुरकुरे बनावट देते हैं।

अंजीर का उत्पत्ति स्थान एशिया माइनर, फिलिस्तीन और फारस है। भारत के लिए यह विलायती फल है तथा अब इसे कश्मीर, बैंगलोर, नासिक, मैसूर आदि में उगाया जाता है। बलूचिस्तान और अफगानिस्तान (काबुल) में यह प्रचुरता से पायी जाती है। अफगानिस्तान की अंजीर को अच्छी गुणवत्ता का माना जाता है।

कितनी अंजीर खा सकते हैं?

  • अंजीर के पांच पीस तक ले सकते हैं।
  • शुगर की बिमारी में इसे बहुत कम मात्रा में खाना चाहिए।
  • अधिक सेवन यकृत (जिगर) और आमाशय के लिए हानिकारक हो सकता है।

अंजीर की तासीर

  • आयुर्वेद में अंजीर शीत वीर्य है।
  • यूनानी में अंजीर को पहले दर्जे का गर्म और दूसरे दर्जे का तर माना गया है।

अंजीर खाने के फायदे

अंजीर को खाने के बहुत से फायदे हैं जो इसमें अधिक फाइबर (कब्ज़ से राहत देना), मैग्नीशियम , मैंगनीज , कैल्शियम (जो हड्डी घनत्व को बढ़ावा देना), तांबे और पोटेशियम (जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है ), साथ ही विटामिन मुख्य रूप से के और बी 6 सहित कई आवश्यक खनिजों के कारण से है।

सूखे अंजीर कोलेस्ट्रॉल को कम करने और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकता है। यह कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत हैं , जो ऑस्टियोपोरोसिस के साथ-साथ अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को रोक सकते है। अंजीर में ऐसे तत्व होते हैं जो हृदय की रक्षा करते हैं, गुर्दे और यकृत कार्यों को नियंत्रित करते हैं, रक्तचाप कम करते हैं, मैकुलर अपघटनको रोकते हैं, और कुछ कैंसर को रोकते हैं, विशेष रूप से रजोनिवृत्ति के बाद स्तन कैंसर को।

अंजीर है पौष्टिक

अंजीर शक्तिवर्धक, वाजीकारक, स्वास्थ्यवर्धक, पाचन और आँतों के लिए हितकारी व पौष्टिकता से भरपूर है। यह फाइबर में समृद्ध हैं। यह घुलनशील फाइबर का एक अच्छा स्रोत हैं जो आपको लंबे समय तक भरा रखने में मदद करता है और कब्ज से राहत देता है। यह महत्वपूर्ण विटामिन और खनिजों में समृद्ध हैं जैसे विटामिन ए, बी 1 और बी 2, मैंगनीज और पोटेशियम, मैग्नीशियम, तांबा, लौह और फास्फोरस।

कब्ज (कोष्ठबद्धता) (कांस्टीपेशन) और पाइल्स में फायदेमंद अंजीर

कांस्टीपेशन में अंजीर को खाने से बहुत लाभ होता है। इसमें में उच्च फाइबर सामग्री है जो स्वस्थ पाचन तंत्र को बनाए रखने में मदद करती है। सूखे अंजीर के एक औंस में 3 ग्राम फाइबर होता है। इस प्रकार यह कब्ज को रोकने में भी सहायता मिलती है। नियमित आंत्र आंदोलनों को बनाए रखने के लिए फाइबर आवश्यक हैं और खाद्य स्रोतों जैसे अंजीर नियमित रूप से खाने से पाचनसिस्टम साफ़ होता है।

अंजीर को आप कब्ज़ में कई तरीकों से इस्तेमाल कर सकते हैं।

कब्ज और बवासीर में 3 से 4 पके अंजीर दूध में उबाल लें। सोने से पहले दूध को पी ले और अंजीर को चबा कर खा लें।

अंजीर 5 से 6 पीस को पानी में रात को सोते हैं भिगो दें। सुबह अंजीर को मसलें और चबा कर खा लें और पानी पी जाएँ। कब्ज से छुटकारा पाने के लिए हर सुबह एक महीने के लिए रोज़ाना करें।

अंजीर को गुलकन्द के साथ रोज सुबह खाली पेट खाने से भी कब्ज़ दूर होती है।

यूनानी दवा माजून इन्जीर में यह प्रमुख घटक है। इस दवा को पुराने कब्ज़ में दिया जाता है। माजून इन्जीर को सोने से पहले एक चम्मच की मात्रा में पानी के साथ लेते हैं।

अंजीर है एंटीऑक्सीडेंट

सूखे अंजीर एंटीऑक्सीडेंट से भरे हुए होते हैं। इनमें एंटीऑक्सिडेंट का एक प्रकार होता है जिसे फिनोल कहा जाता है जो हृदय रोगों और विभिन्न प्रकार के कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। इसमें विटामिन ई और विटामिन सी में होता है। यह एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है। एक अध्ययन के मुताबिक, सूखे अंजीर में एंटीऑक्सीडेंट की उच्च गुणवत्ता होती है जो हृदय रोग और पथरी को रोकने लाभप्रद है। एक कप पानी में 6 ड्राई अंजीर उबालें। इस महीने एक महीने तक उपभोग करें।

अंजीर करे हड्डियों को मजबूत

सूखे अंजीर में कैल्शिय, फॉस्फोरस, विटामिन डी पाए जाते हैं जो हड्डियों को मजबूत करने में मदद करते है। कैल्शियम की कमी से बोंस कमजोर हो जाती है और इससे ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है और साथ ही हड्डियों में दर्द का अनुभव होता है। मानव शरीर को प्रति दिन लगभग 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है। चूंकि कैल्शियम शरीर द्वारा उत्पादित नहीं होता है, इसलिए इसे हमे भोजन से लेना होता है। दूध के साथ साथ अन्य कैल्शियम युक्त आहार को भोजन में शामिल करना महत्वपूर्ण है। हड्डियों को मजबूत करने के लिए अंजीर खाएं।

अंजीर है हृदय के लिए अच्छा

अंजीर खाने से शरीर में ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करने में मदद होती है। इसमें उच्च एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। इसमें रपोटेशियम भी जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

अंजीर करे ब्लड शुगर नियंत्रित

अंजीर में पोटेशियम उच्च होता है। इससे रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में मदद होती है। मधुमेह की मदद करने के लिए एक उच्च पोटेशियम आहार लिया जाता है। शोध अध्ययनों में यह भी पाया गया है कि अंजीर में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है और टाइप -2 मधुमेह में रक्त ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करता है। मधुमेह रोगियों को अंजीर को नाश्ते में शामिल करना चाहिए जिससे शरीर में इंसुलिन की रिहाई को स्थिर करने और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद हो सके।

अंजीर प्यास की अधिकता में भी लाभप्रद है। इसलिए बार-बार प्यास लगने पर अंजीर का सेवन करें।

डायबिटीज में सूखी अंजीर बहुत कम मात्रा में और वो भी सावधानी से करें। सूखी अंजीर में शर्करा की काफी मात्रा होती है इसलिए यह ब्लड ग्लूकोज लेवल को बढ़ा सकती है।

अंजीर करे वजन प्रबंधन में मदद

जैसे की आप जानते हैं अंजीर में फाइबर ज्यादा होता है। उच्च फाइबर का पाचन अंगों पर सकारात्मक प्रभाव होता है। फाइबर समृद्ध आहार उन अतिरिक्त किलों को बहाल करने में मदद कर सकता है। फाइबर की कमी से कब्ज़, गैस और आँतों में टोक्सिन हो जाते है। अंजीर खाने से भूख शांत होती है और पेट देर तक भरा हुआ लगता है। इससे वजन घटाने में मदद होती है। अंजीर कैलोरी में कम होते हैं और उनमें कोई वसा नहीं होती है।

लेकिन चूंकि सूखे अंजीर कैलोरी में भी अधिक होते हैं, यह सुनिश्चित करें कि आप नियमित आधार पर इसे कम मात्रा मात्रा में लें। ज्यादा मात्रा में लेंगे तो मीठे अंजीर से वजन बढ़ भी सकता है। इसलिए मात्रा पर ध्यान देना अनिवार्य है।

अंजीर ठीक करे फर्टिलिटी

अंजीर खाने से डिजायर और फर्टिलिटी बढ़ती है। इसमें जिंक, मैंगनीज, मैग्नीशियम और लौह होने से प्रजनन स्वास्थ्य बेहतर होता है। सूखे अंजीर एंटीऑक्सिडेंट्स और फाइबर का उच्च स्रोत होते हैं, इसलिए वे रजोनिवृत्ति स्तन कैंसर और हार्मोनल असंतुलन के खिलाफ सुरक्षा में मदद करते हैं।

अंजीर को यौन कमजोरी को दूर करने के लिए भी उपयोग किया जाता है।

वाजीकरण, बलवर्धन, शक्ति वर्धन के लिए :

सुबह 2-3 अंजीर खा कर मिश्री मिला दूध पी लें। ऐसा नियमित एक महीने तक करें। अथवा

रात को खजूर और अंजीर को पानी में भिगो लें। सुबह इसे खाली पेट मसल कर सेवन करें और पानी पी लें।

अंजीर स्तन कैंसर में फायदेमंद

अंजीर शरीर से हानिकारक एस्ट्रोजेन को हटाते हैं। शरीर में अतिरिक्त एस्ट्रोजेन हार्मोन रजोनिवृत्ति की समस्या, डिम्बग्रंथि, स्तन और गर्भाशय कैंसर, वजन बढ़ाने और मूड स्विंग का कारण बन सकता है। अंजीर अतिरिक्त एस्ट्रोजेन के उन्मूलन में मदद करते हैं।

अंजीर में सभी उम्र की महिलाओं के लिए फायदेमंद है। नियमित रूप से खाने से स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है। इसमें फाइबर की अधिक मात्रा है और यह एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है।

अंजीर करे श्वशन रोगों में मदद

अंजीर को विभिन्न श्वसन विकारों के इलाज में प्रयोग करते हैं। यह खांसी और अस्थमा के लक्षणों को भी कम करता है। गले की दिक्कतों में छुटकारा पाने के लिए पानी में सूखे अंजीर और शहद मिलाकर खाना चाहिए।

सूखी खांसी- पुरानी खांसी है तो अंजीर खाएं हो जाती है। यह बलगम को पतला करके बाहर निकालने में मदद करती है। 2 अंजीर के फलों को पुदीने के साथ खाने से सीने पर जमा हुआ कफ धीरे-धीरे निकल जाएगा। पके अंजीर का काढ़ा पीने से खांसी दूर हो जाती है।

अस्थमा में अंजीर 3-4 को रात में पानी में भिगो दें और सुबह मसल कर खा ले और पानी पी जाएँ।

अंजीर अच्छी है नजरों के लिए

अंजीर में विटामिन ए पाया जाता है। विटामिन ए, दृष्टि को शक्तिशाली बनाता है। यह आपकी आंखों के स्वास्थ्य में योगदान दे सकते हैं और मैकुलर अपघटन और मोतियाबिंद को रोक सकते हैं। दैनिक आधार पर 3-4 सूखे अंजीर का उपभोग करें और उम्र से संबंधित दृष्टि हानि के अपने जोखिम को कम करें ।

अंजीर बढाए खून

सूखे अंजीर में लोहा होता है जो हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा में वृद्धि करने में मदद करता है। इसलिए, अंजीर खाने से आपके शरीर में लौह के स्तर को बढ़ाकर अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने का एक प्राकृतिक तरीका है।

अंजीर मेवा (सूखी अंजीर) के हर 100 ग्राम की पौष्टिकता

  • कुल कैलोरी: 250
  • कार्बोहाइड्रेट: 64 ग्राम
  • शर्करा: 48 ग्राम
  • आहार फाइबर: 10 ग्राम
  • फोलिक एसिड: 9 ग्राम
  • प्रोटीन: 3 ग्राम
  • कुल वसा: 1 ग्राम
  • संतृप्त फैट: 0.3 ग्राम
  • मोनोअनसैचुरेटेड फैट: 0.3 ग्राम
  • विटामिन ए: 10 आईयू
  • विटामिन सी: 1.2 मिलीग्राम
  • विटामिन ई: 0.4 मिलीग्राम
  • विटामिन के: 15.6 माइक्रोग्राम
  • नियासिन: 0.6 मिलीग्राम
  • पैंटोफेनीक एसिड: 0.4 मिलीग्राम
  • विटामिन बी 6: 0.1 मिलीग्राम
  • रिबोफैक्विइन: 0.1 मिलीग्राम
  • थियामीन: 0.1 मिलीग्राम
  • चोलिन: 15.8 मिलीग्राम
  • बेटेन: 0.7 मिलीग्राम
  • कैल्शियम: 162 मिलीग्राम
  • कॉपर: 0.3 मिलीग्राम
  • लोहा: 2 मिलीग्राम
  • मैग्नीशियम: 68 मिलीग्राम
  • मैंगनीज: 0.5 मिलीग्राम
  • फास्फोरस: 67 मिलीग्राम
  • पोटेशियम: 680 मिलीग्राम
  • सोडियम: 10 मिलीग्राम
  • सेलेनियम: 0.6 माइक्रोग्राम
  • जस्ता / जिंक: 0.5 मिलीग्राम

अंजीर खाने के नुकसान

  • अंजीर को कम कम मात्रा में खाना ही अच्छा है। बहुत खायेंगे तो उच्च फाइबर होने से दस्त हो सकता है।
  • सूखे अंजीर चीनी में उच्च होते हैं जिससे यह और दांत क्षय का कारण बन सकता है।
  • अधिक मात्रा में इसे पेट और लीवर के लिए अहितकर माना गया है।
  • अंजीर के दुष्प्रभाव दूर करने के लिए सिकजबीन अथवा बादाम दिया जाता है।
  • अंजीर पचने में भारी है।

कम मात्रा में खाने पर यह पाचक, हृदय-लीवर और स्प्लीन के लिए हितकर है। परन्तु अधिक मात्रा में खाने गैस, अतिसार आदि उपद्रव हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!