कौंच बीज के 10 फायदे और नुकसान

मुकुना प्र्युरीन्स - केवांच का बीज एक स्थापित हर्बल दवा है जो पुरुष बांझपन, तंत्रिका विकारों के प्रबंधन और एक एफ़्रोडायसियाक के प्रबंधन के लिए उपयोग की जाती है। जानिये कौंच बीज के फायदे और दुष्प्रभाव।

कौंच, केवांच, कपिकच्छू, कपिलोमा, कपि, मर्कटी, वानारी, आत्मगुप्ता आदि नाम उन सभी ने सुन रखे होंगे जो फर्टिलिटी, कामेच्छा और ताकत जोश बढ़ाना चाहते है। यह सभी नाम एक औषधीय वनस्पति मकूना प्रुरीन्स, के बीज की गिरी के हैं जिसे आयुर्वेद में विशेष रूप से प्रजनन अंगों को ताकत देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

केवांच के बीज से बने पाउडर, कैप्सूल और एक्सट्रेक्ट को अकेले ही या अन्य जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर दवाएं बनाई जाती हैं जिससे यौन अंगों के सही वकास और काम काज में मदद होती है। कौंच के सेवन से पुरुषों में मर्दाना ताकत, जोश, जवानी और सेक्स करने की इच्छा बढती है। स्त्रियों में इसे शतावरी आदि के साथ देते हैं जिससे मूड अच्छा हो और योनि गर्भाशय को ताकत मिले।

कौंच का बीज क्या है

कौंच या केवांच की लता होती है। इस लता को भारत भर में 3000 फीट की ऊंचाई तक पहाड़ियों वाले इलाके में पाया जाता है। पौधे पर फलियाँ लगती हैं जिसमें बीज पाए जाते है। फलियों पर पाए जाने वाले रोएं बंदर के बाल जैसे दिखते हैं और यही कारण है कि इस कपिकच्छू, कपिलोमा, कपि, मर्कटी और वानारी जैसे नाम दिए गए हैं। ये रूयें त्वचा के संपर्क में आने पर बहुत खुजली करते हैं।

केवांच का वैज्ञानिक नाम Mucuna Pruriens है।

जो किस्म जंगल में मिलती है वह अधिक उपयोगी है तथा काले बीज, सफ़ेद बीज की तुलना में अधिक फायदेमंद हैं।

कौंच बीज के फायदे Health Benefits of Mucuna

कौंच को बीज की गिरी के पाउडर, कैप्सूल या एक्सट्रेक्ट की तरह से खाने से पूरे शरीर पर असर होता है। इससे दिमाग पर भी पॉजिटिव असर होता है। टेस्टोस्टेरोन बूस्टर होने से यह पेनिस, मासपेशियों आदि पर असर करता है। नीचे कौंच के सेवन के दस लाभ दिए गए हैं:

कौंच बीज हैं पुरुषों के लिए बहुत उपयोगी

आजकल सेक्स सम्बन्धी दिक्कतें होना आम है। इनमें से बहुत सारी सेक्स प्रोब्लेम्स दवाओं के माध्यम से ठीक की जा सकती हैं। पुरुषों के गुप्त रोगों जैसे शीघ्रपतन, पेनिस का कड़ा नहीं हो पाना, धात गिरना, रात में सपने में वीर्य का निकल जाना, सेक्स का मन नहीं करना आदि में केवांच को खाने से लाभ होता है। कौंच के बीज को दूध में पका के वीर्य की शिकायतों, शुक्रक्षीणता और पक्षाघात में प्रयोग किया जाता है।

कौंच बीज हैं स्त्रियों के लिए उपयोगी

कौंच बीज औरतों के लिए लाभप्रद हैं। यह औरतों में भी प्रजनन क्षमता को बढ़ाते है। इसे खाने से फोलिकल उत्तेजक हार्मोन और ल्यूटिनिज़िंग हार्मोन follicle stimulating hormone and luteinizing hormone में वृद्धि होती है जो संभवतः एल-डोपा के मेटाबोलाइट, डोपामाइन के बनने के कारण से है। इन हार्मोन की वृद्धि से ओव्यूलेशन में जारी ओसाइट्स की संख्या बढ़ती है। अंडाशय में ओवा की संख्या में इसके सेवन से महत्वपूर्ण वृद्धि हो सकती है जिससे प्रेगनेंसी के चांस बढ़ते हैं।

कौंच के बीज प्रदर, लिकोरिया, मासिक धर्म की समस्या, वात व्याधि में फायदा करते है।

कौंच बीज से बढ़ता है टेस्टोस्टेरोन और बनती हैं मसल्स

कौंच में एल-डोपा होता है , जो डोपामाइन बनाता है। टेस्टोस्टेरोन पूरक की तरह कौंच का सेवन किया जा सकता है क्योंकि डोपामाइन के स्तर और टेस्टोस्टेरोन के संश्लेषण में वृद्धि के बीच एक सीधा लिंक है। टेस्टोस्टेरोन बढने से मांसपेशियों में वृद्धि, बेहतर सेक्स ड्राइव, बेहतर शुक्राणु की गुणवत्ता और निम्न कोर्टिसोल हो सकता है। पुरुषों के यौन स्वास्थ्य और कल्याण के लिए इसके अतिरिक्त लाभ भी हो सकते हैं।

बढ़ा हुआ टेस्टोस्टेरोन मांसपेशीय द्रव्‍यमान को बढ़ाने में मदद करता है।

कौंच से अच्छा होता है मानसिक स्वास्थ्य और आती है अच्छी नींद

शोध से पता चलता है कि कौंच संज्ञानात्मक और तंत्रिका कार्यों को बेहतर बनाता है और मस्तिष्क की रक्षा करता है। यह ​​तंत्रिका गतिविधि को भी प्रोत्साहित करता है। जानवरों पर अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य और तनाव प्रतिक्रिया को बेहतर बनाने के लिए कौंच फायदेमंद है। मनोवैज्ञानिक तनाव से पीड़ित 120 पुरुषों से जुड़े एक अध्ययन में बताया गया है कि मुकुना पूरक ने तनाव को आसान बना दिया है।

कौंच भरपूर है एंटीऑक्सीडेंट से और रोकता है उम्र बढ़ने के असर को

मुकुना प्रूरीन्स पॉलीफेनॉल, फ्लैवोनोइड्स और फेनोलिक एसिड समेत फेनोलिक एंटीऑक्सिडेंट्स की पर्याप्त मात्रा पैदा करता है जो लिपिड पेरोक्साइल, पेरोक्साइड और हाइड्रोप्रोक्साइड जैसे मुक्त कणों पर बांधते हैं।

शोधकर्ताओं ने यह निष्कर्ष निकाला कि मुकुना प्रुरियंस एंटीऑक्सीडेंट रक्षा प्रणाली को पुनः सक्रिय करता है, जो शरीर के भीतर होमियोस्टेसिस को बनाए रखने के लिए आवश्यक एक आवश्यक जैविक तंत्र है।

कौंच के पार्किंसंस रोग में भी हैं लाभ

पार्किंसंस की बीमारी में आंशिक रूप से मस्तिष्क में डोपामाइन के उत्पादन में कमी आ जाती है। डोपामाइन एक महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर है। चूंकि मुकुना प्रूरीन्स सकारात्मक रूप से डोपामाइन के स्तर को प्रभावित करता है, यह एल-डोपा का प्राकृतिक रूप है और सिंथेटिक लेवोडापा की तुलना में बराबर (या बेहतर) परिणाम प्रदान करता है और वो भी और मतली, उल्टी, और अनैच्छिक मांसपेशी आंदोलन के आम दुष्प्रभावों के बिना।

कौंच करे जहर से बचने में मदद

कौंच के बीज के वाटर एक्सट्रेक्ट से सांप के काटने के जहर के जहरीले प्रभावों के खिलाफ सुरक्षा मिलती है। आश्चर्यजनक रूप से, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि मुकुना सांपबाइट जहर के खिलाफ छोटे (24 घंटे) और लंबी अवधि (एक महीने) में सुरक्षा प्रदान करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें मल्टीफार्म ग्लाइकोप्रोटीन होता है जो एंटीबॉडी के उत्पादन को उत्तेजित करता है, जो विशिष्ट जहर प्रोटीन को अप्रभावी बना देता है।

कौंच है अवसाद उपचार में प्रभावी

कौंच में शक्तिशाली एंटी-अवसाद गुण होते हैं। अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि कौंच के एल्कालोइड, एमिनो एसिड और कार्बोहाइड्रेट में डोपामिनर्जिक गुण होते हैं जो तीव्र और पुरानी अवसाद के लक्षणों को कम करते हैं।

कौंच से कम होती है शुगर

नैदानिक ​​अध्ययन में पाया गया कि मुकुना प्रुरियन्स के बीज में प्रभावी एंटीडाइबिटीज गुण होते हैं। इसके सेवन के दो घंटे बाद रक्त ग्लूकोज स्तर में कमी आती है। मधुमेह अध्ययन विषयों में, 21 दिनों के दैनिक कौंच के सेवन ने रक्त ग्लूकोज के स्तर 240।5 ± 7।2 से 90।6 ± 5।6 मिलीग्राम% तक गिराया।

कौंच है त्वचा रोग उपचार में प्रभावी

जर्नल ऑफ पारंपरिक एंड कॉम्प्लेमेन्टरी मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि मुकुना प्रूरीन्स यौगिकों का उत्पादन करते हैं जो त्वचा रोगों के इलाज में प्रभावी होते हैं जिनमें त्वचा रोग, एक्जिमा और सोरायसिस शामिल हैं।

कौंच के बीज की तासीर

कौंच के बीज को आयुर्वेद में गर्म माना गया है। यूनानी में केवांच की तासीर। केवांच को तासीर में दूसरे दर्जे का गर्म और शुष्क माना गया है।

कौंच बीज के नुकसान | कौंच बीज साइड इफेक्ट्स

कौंच बीज से सिरदर्द, अनिद्रा, मतली, उल्टी, पेट में सूजन, भ्रम और भ्रम सहित कई प्रतिकूल साइड इफेक्ट्स हैं। इसके अलावा, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को मुकुना प्रूरीन्स का उपयोग नहीं करना चाहिए। दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों को भी इसका सावधानी से डॉक्टर की राय से उपयोग करना चाहिए क्योंकि इसमें एल-डोपा है जो चक्कर आना, फेंकने और ऑर्थोस्टैटिक हाइपोटेंशन का कारण बन सकता है।

लम्बे समय तक लेने के साइड इफेक्ट्स

  • वज़न कम होना
  • दवाओं का असर कम करना
  • उलटी, भूख नहीं लगना,
  • रक्तचाप कम होने से अनियमित धड़कन
  • इससे मांसपेशियों में अनैच्छिक गति

इसे नहीं लें और डॉक्टर की राय लें यदि:

  • पागलपन, या कोई अन्‍य मानसिक बीमारी है।
  • डायबिटीज है।

गर्भवती या स्‍तनपान कराने वाली महिला

प्रजनन कार्य और स्‍तनपान के लिए आवश्‍यक प्रोलैक्टिन को कम करने की इसकी क्षमता के कारण गर्भवती या स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए मुकुना का सेवन न करने की सलाह दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!