नाग भस्म के फायदे, साइड इफेक्ट्स, डोज़ और प्रयोग

नागा भस्म का प्रयोग बार बार पेशाब लगाने, मधुमेह, दस्त, प्लीहा की वृद्धि, त्वचा रोगों के प्रबंधन के लिए किया जाता है। इस दवाई को बहुत ही संतुलित मात्रा में डॉक्टर को दिखा कर ही लेनी चाहिए।

आयुर्वेद में भस्म (कैल्क्स रूप में धातु की तैयारी), धातु को दवा की तरह से इस्तेमाल करने का तरीका है। भस्म धातुओं को हर्बल एक्सट्रेक्ट या रस में मर्दन करके कैल्सीनेशन के बाद बनने वाला उत्पाद है। भस्म बहुत छोटी खुराक पर भी अत्यधिक शक्तिशाली और प्रभावी मानी जाती है। इनकी उच्च शक्ति के कारण, भस्म का उपयोग अकेले रूप भी किया जाता है। लेकिन खुराक प्रशासन की सुविधा के लिए और किसी भी अप्रिय प्रभाव से बचने के लिए भस्म को ज्यादातर हर्बल दवाओं के संयोजन से फॉर्मूलेशन फॉर्मों में दिया जाता है।

मधुमेह में आम चयापचय विकारों का समूह है जिसमें हाइपरग्लिसिमिया हो जाता है। आयुर्वेद की हर्बो-खनिज दवाओं में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने की क्षमता है। नाग भस्म भी एक एंटीडाइबेटिक दवाई है।

नाग भस्म, आयुर्वेदिक तरीके से तैयार लेड की भस्म (कैल्क्स) है। यह एक शक्तिशाली धातु से बनी औषधि है है जो मुख्य रूप से प्रमेह (मूत्र विकार,मधुमेह) के उपचार में प्रभावी है। अन्य जड़ी बूटियों के साथ संयोजन में यह भस्म किसी भी अप्रिय प्रभाव से रहित है।

आयुर्वेद के अनुसार गुण

नाग भस्म आंतरिक उपयोग के लिए गर्म (वीर्य) है। यह स्वाद या रस में तिक्त (कड़वा स्वाद) है।

विपाक में यह कटु है।

यह वात और कफ हर है। इसमें एंटीडाइबेटिक, दीपन (एपेटाइज़र) और आमवात को दूर करने ( रूमेटोइड गठिया में प्रभावी) के गुण है।

डोज़

30 मिलीग्राम से 125 मिलीग्राम दिन में 2 बार शहद या मक्खन के साथ।

नाग भस्म के संकेत

नाग भस्म के मुख्य संकेत में प्रमेह रोग जैसे मधुमेह, बार बार पेशाब आने, पेशाब नहीं रोक पाना, आदि शामिल है। मर्दाना कमजोरी और टेस्टिस की समस्या में भी इसे देते हैं। प्लीहा वृद्धि, प्रदर, हर्निया, पुराने वात रोग जैसे गठिया, आदि के उपचार में भी इसका प्रयोग किया जाता है। यह भस्म आंत, अग्न्याशय, मूत्राशय, वृषण, मांसपेशियों, जोड़ों और स्नायुबंधन पर प्रभाव डालती है और इन्ही के रोगों में फायदेमंद है।

  • अक्सर पेशाब आना
  • अस्थि-बंधन की चोट
  • दुर्बलता
  • नपुंसकता
  • प्रदर रोग
  • प्रमेह रोग
  • प्लीहा वृद्धि
  • बवासीर
  • ब्रोंकाइटिस
  • मधुमेह
  • मालब्सॉर्प्शन सिंड्रोम
  • मूत्र असंयम
  • लगातार पेशाब आना
  • संधिशोथ
  • हर्निया
  • हर्निया के कारण अम्लता और सीने में जलन आदि।

नाग भस्म के फायदे

आधुनिक विज्ञान लेड और लेड यौगिकों को मानव स्वास्थ्य के लिए विषाक्त मानता है। आयुर्वेद की विस्तृत प्रक्रिया के बाद बनने वाली यह भस्म, लेड की जहरीली प्रकृति को नष्ट कर देता है और इसे असाधारण औषधीय गुणों को प्रदान करता है। हाल के शोध कार्यों में नागा भस्म के एंटी-हाइपरग्लेसेमिक प्रभाव भी साबित होते हैं।

नाग भस्म मधुमेह, पेशाब रोग, घाव, बवासीर गृहणी, अतिसार, नपुंसकता, वात विकार, कमजोरी, गुल्म आदि में दी जाती है।

एंटीडाइबेटिक असर

शोध के आधार पर, यह निष्कर्ष निकाला गया है कि नागा भस्म में महत्वपूर्ण एंटीडाइबेटिक संपत्ति होती है और यह एक सुरक्षित दवा है। नाग भस्म मधुमेह संबंधी जटिलताओं को रोकने में सहायक है।

कम करे वात और कफ

शरीर में वात और कफ दोष के बढ़ जाने से तरह तरह के रोग होते है। यह औषधि वात और कफ को कम करती है जिससे सम्बंधित विकारों में लाभ होता है।

बढ़ाए पित्त

पित्त वर्धक गुण के कारण नाग भस्म, दीपन, पाचन और रुचिकर है।

दे ताकत

नाग भस्म सभी सप्तरस को सक्रिय करता है और सभी इंद्रियों को पुनर्जीवित करता है। यह नपुंसकता में फायदेमंद है। इसमें वीर्य को बढ़ाने के गुण है।

विशेष सावधानी

  • चिकित्सक द्वारा सलाह दी गई है कि इस दवा को सटीक खुराक में और सीमित अवधि के लिए लें।
  • कभी-कभी यह पेट दर्द का कारण बन सकती है
  • यह दवा केवल सख्त चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत ली जानी चाहिए।
  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को यह नहीं लेनी चाहिए।
  • यह मुख्य रूप से वातज-कफज प्रमेह में उपयोगी है।
  • इसे पित्तज प्रमेह में सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए।

नाग भस्म की विषाक्तता पर अध्ययन

चिकित्सीय समकक्ष खुराक स्तर पर नागा भज्जा के तीव्र विषाक्तता अध्ययन में सुरक्षित पाया गया, जबकि 5 गुना पर की गई क्रोनिक विषाक्तता अध्ययन में कोई जहरीला प्रभाव नहीं देखा गया।

इस अध्ययन में यह भी पता चलता है कि नाग भस्म रक्त शर्करा के स्तर को कम कर देता है।

सेफ्टी

विषाक्तता और एंटीडाइबेटिक अध्ययनों ने नागा भस्म की सुरक्षा प्रोफ़ाइल दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!