हिमालया वसाका सिरप का उपयोग, फायदे और नुकसान

हिमालया का आयुर्वेदिक वसाका सिरप ब्रोन्कियल सूजन को कम करता है और वायुमार्ग खोलता है, कफ के निर्वहन में मदद करता है और बंद छाती को राहत देता है।

कोल्ड, कफ, सर्दी, खांसी आदि श्वशन तंत्र की आम दिक्कतें हैं। उत्पादक या गीली खांसी productive cough or wet cough में श्लेष्म या कफ बनता है। छाती में जमावट महसूस होती है। नींद से उठने और बात करते समय लक्षण अक्सर खराब होते हैं। खांसी में श्लेष्म कफ अधिक बनता है जिससे वायुमार्ग संकरा हो जाता है और सांस लेने में दिक्कत होती है। वायरल ब्रोंकाइटिस होने पर फेफड़ों की ब्रोन्कियल ट्यूबों में सूजन हो जाती है। गीली खांसी या वेट कफ में गले में खराश या गला बैठना आदि हो सकता है जो सुबह में और भी बदतर हो जाता है।

कफ वाली खांसी या वेट कफ के कारण के आधार पर, अन्य लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • सांस फूलना
  • बुखार
  • ठंड और फ्लू के लक्षण
  • घरघराहट
  • छाती में दर्द।

गीली खांसी के कारणों में सामान्य सर्दी और इन्फ्लूएंजा (फ्लू) सहित वायरल संक्रमण, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया ; धूम्रपान; तथा पुरानी अवरोधक फुफ्फुसीय बीमारी (सीओपीडी) आदि शामिल है।

इस तरह की दिक्कतों में आप Vasaka Syrup ले सकते हैं। यह दवा उन केस के लिए है जहां खांसी में कफ बनता है। वसाका सिरप एक  प्रभावी श्वसन देखभाल के लिए हर्बल दवा है।

वसाका सिरप के फायदे

वसाका ब्रोन्कियल सूजन को सूखाता है और वायुमार्ग खोलता है। यह अधिक स्राव के डिस्चार्ज में मदद करता है और छाती में जाम होने की दिक्कत में राहत देता है।

वसाका खांसी को दबाने, कफ को ढीला करने, ब्रोन्कियल स्राव को पतला करने और सुस्त फेफड़ों के काम में सुधार करने में सहायता करता है।

एंटी-अस्थमात्मक और ब्रोंकोडाइलेटर गतिविधि

श्वास के विकारों के इलाज के लिए पारंपरिक दवा में वासा  का इस्तेमाल किया जाता है। vkicine और vasicinone alkaloid  वासा  के घटक हैं और अच्छी तरह से चिकित्सीय के रूप में स्थापित हैं। वासा की पत्तियों को ब्रोंकाइटिस, और अन्य फेफड़ों और ब्रोंकोयल के इलाज में इस्तेमाल करने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

अरुसा या वासा की पत्तियों का गले में जलन पर सुखद प्रभाव पड़ता है और श्वसन में कफ को ढीला करने का कार्य करता है. वैसीसिन का उपयोग इन विट्रो और विवो दोनों में ब्रोंकोडाइलेटरी गतिविधि दिखाती है।

एंटी-बैक्टीरिया गतिविधि

अडूसा की पत्ती में एंटीबैक्टीरियल गतिविधि ,है । इन-विट्रो स्क्रीनिंग ने दिखाया बैक्टीरिया के खिलाफ अडूसा के एल्कोलोइड की मजबूत गतिविधि है।

हिमालया वसाका के संकेत

  • कफ के साथ खांसी
  • ब्रोंकाइटिस

हिमालया वसाका की संरचना

प्रत्येक 5 मिलीलीटर में 83 मिलीग्राम वसाका

हिमालया वसाका की खुराक की सिफारिश

बच्चे: 5 मिलीलीटर – 7.5 मिलीलीटर प्रतिदिन या चिकित्सक द्वारा निर्देशित।

वयस्क: 10 मिली – 15 मिलीलीटर प्रतिदिन या चिकित्सक द्वारा निर्देशित।

हिमालया वसाका सिरप का मूल्य

Vasaka Syrup 200 ml की कीमत Price: 93 है।

गीली खांसी में टिप्स

बहुत सारे तरल पदार्थ पीएं, जो श्लेष्म को पतला करने में मदद कर सकते हैं और खांसी को आसान बना सकते हैं।

श्लेष्म (कफ) को तोड़ने में मदद करने के लिए एक गर्म, भाप स्नान करें।

खूब आराम करें।

विशेष निर्देश

निम्नलिखित स्थितियों में उपभोग करने से पहले कृपया अपने चिकित्सक को सूचित करें:

  • गर्भावस्था
  • स्तनपान
  • मधुमेह
  • उच्च रक्तचाप

Contraindications

  • विशिष्ट contraindications की पहचान नहीं की गई है।
  • इसे प्रेगनेंसी में नहीं लें।
  • यदि लक्षण बने रहें तो कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श लें।

निर्माता

  • हिमालय ड्रग कंपनी
  • मकाली, बेंगलुरु – 562162

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!